आप कार्टूनिस्ट हैं और आपने अभी तक अपना ब्लॉग नहीं बनाया है तो कृपया अभी अपना ब्लॉग बनाएं। यदि कोई परेशानी हो तो केवल हिन्दी में अपना ब्लॉग बनवाने के लिए आज ही सम्पर्क करें-चन्दर

गुरुवार, 6 फ़रवरी 2014

सोमवार, 3 फ़रवरी 2014

कार्टूनिस्ट असीम

कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी जायसवाल के सामने 
• प्रवीन मोहता, कानपुर
आम आदमी पार्टी केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल को चुनौती देने के लिए कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी को कानपुर लोकसभा सीट से टिकट दे सकती है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, इस पर जोर-शोर से विचार मंथन चल रहा है। वहीं इस मामले में असीम त्रिवेदी का कहना है कि उनकी पार्टी से बातचीत चल रही है। अगर पार्टी मुझे कानपुर से लड़ने को कहेगी तो मैं इसके लिए तैयार हूं। वैसे भी मेरा कानपुर से पुराना जुड़ाव रहा है।
Aseem-Trivediकानपुर नगर लोकसभा सीट से पिछले 3 बार से केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल झंडा गाड़ते रहे हैं, लेकिन इस बार इस सीट पर मुकाबला दिलचस्प होने की उम्मीद है। एसपी जहां कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को पहले ही उम्मीदवार घोषित कर चुकी है, वहीं बीएसपी से सलीम अहमद के प्रत्याशी होने की पूरी संभावनाएं हैं। बीजेपी से कोई नाम तय नहीं है, लेकिन सीनियर नेता कलराज मिश्र का नाम जोर-शोर से चल रहा है। इन तमाम समीकरणों को आम आदमी पार्टी बिगाड़ सकती है। अरविंद केजरीवाल ऐलान कर चुके हैं कि कांग्रेस और बीजेपी के कई बड़े नेता उनके निशाने पर हैं। इनमें श्रीप्रकाश जायसवाल भी हैं। माना जा रहा है कि इसी रणनीति के तहत पार्टी फेमस कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी को कानपुर से चुनाव मैदान में उतार सकती है। हालांकि इस बारे में कोई फैसला नहीं हुआ है। पार्टी के शहर संयोजक योगेश श्रीवास्तव के अनुसार 10 फरवरी के बाद उनके उम्मीदवारों की लिस्ट आने लगेगी। जानकारों का यह भी कहना है कि अब तक कौशांबी (गाजियाबाद) ऑफिस में कानपुर के लिए 50 से ज्यादा आवेदक टिकट की एप्लिकेशन भेज चुके हैं। शुक्लागंज इलाके के रहने वाले असीम ने बताया कि कानपुर से चुनाव लड़ने के लिए वह पार्टी से बातचीत कर रहे हैं। अगर पार्टी ने आदेश दिया तो वह जरूर लड़ेंगे।पार्टी की कानपुर यूनिट के मीडिया इंचार्ज अमित अवस्थी के अनुसार, पार्टी 31 जनवरी तक 1 लाख 10 हजार लोगों को मेंबर बना चुकी है। शहर में पार्टी से जुड़ने के लिए जबर्दस्त उत्साह देखा जा रहा है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि अब तक हुई मेंबरशिप में करीब 30 फीसदी मुस्लिम हैं। यह फैक्टर कई पार्टियों का हिसाब-किताब बिगाड़ सकता है। 
सौजन्य • नवभारत टाइम्स Feb 1, 2014

कार्टूनेचर फ़ीचर सेवा

कार्टून न्यूज़ हिन्दी झरोखा